Wednesday, June 25, 2014

यह मन

जहाँ नहीं है वही होना चाहता है
और जहाँ है वही से कौसो दूर है। …

देर रात jogging की ख्याइश बुनता है
भरी दोहपहरी में किसी पहाड़ की चोटी छूना  चाहता है

जब music सुनने का option  पास ना हो, तभी कुछ सुनने की तलब होती है
और जब होता है, तो कुछ ही देर में सब सुना सुना सा लगता है

कभी सारी दुनिया को switch off करके कोई किताब पढ़ने को तरसता है
और जब किताबें सामने हो तो सब समेट कर सोने का ढ़ोंग करता है

और जब सोने लगता है तो वोह भी time waste सा लगता है

जो है वो नहीं चाहिए।।।
और क्या चाहिए पता नहीं पर बहुत ज़रूरी और जल्दी  चाहिये। …

है तो बस........  एक ख़ालीपन

Wednesday, June 18, 2014

Italia 90 ..oops World Cup 2014

When it comes to Soccer World, I’m still stuck at ‘ITALIA 90’, when I watched ALL ( ok most of the) games. Every time when world cup is on, I always talk about ITALIA 90 games, how cool was Baggio, or Roger Milla or Argentinian goalkeeper became overnight stars, blah blah…see this is my problem, I can’t get over ITALIA 90 :-)

Alright, for this edition , mark my top 4 contenders –
1)    Belgium
2)    Brazil
3)    Netherlands
4)    Germany

Thank you :-)

Friday, June 06, 2014

Rule# 76

Words have an obstinate power, especially the ones which are never spoken, specially that self-talking that goes on and on and on.
Nothing ever in this Universe gets unheard , whatever  you think, say, mutter at someone, at yourself world general.  It all becomes the part of the Universal reverberations .

76) So, stay positive, joyful in your head and heart.